Wednesday, June 17, 2009

"सफर नवोत्कर्ष का"


कुछ दूर हमारे साथ चलो
हम सारी कहानी कह देंगे
समझे ना जिसे तुम अब तक भी
वो बात यहां हम केह देंगे
एक दिन यादों के कोहरे में
वो बात पुरानी जाग उठी
तब परियन्त की उस चिंगारी से
मशालें नवोत्कर्ष कि रोशन हुई
उजागर हुई इस राह पर
कुछ नया करने की चाह जगी
तब लेकर मशाले हाथों में
प्रग्या परिवार के कदम बढ़े
कठिनाई ने हमको रोका भी
बंदिशो ने हमको टोका भी
पर...
हर कठिनाई को हमने पार किया
हर मुश्किल को संग में दूर किया
प्रतिति मे हमने पाठ पढ़ा
चाणक्य जी का सबब लिया
बेची जब चीजे खुद हमने यहां
तो बाजार का नया गुर सीखा
नव्याक्रति में दिखि क्रतियां नयी
एक बबात के दिखे पहलू कई
रंग बिखरे रचनाओं के
नये मनये विचारो को यहां रुपरेखा मिलि
संस्क्रति की जब झलकियां दिखी
गरबे में गुजरात के रंग बिखरे
डांडिये कि खनक ने सबको मोहा
वहीं...
देश की समस्याओं को हमने विचारा
शहिदो को यहां हमने पुकारा
और संग ही संग
मस्ती का खोला पिटारा
मचाकर बालिवुड बादशाह की गुमशुदगी का
बवंडर खूब सारा
यहां हमने खोला ग़्यान का पिटारा
उलेडा मस्ती का भंडारा
और...
दिन भर करके काम खूब सारा
शाम मे उडाया खाना खाजाना
अब हर चाह हमारी पूरी है
पर ग्यान की कडी अभी अधुरी है
होगा लक्ष्य पूरा तभी
जब हर पीढी इस परिवार की
लेकर मशाले हाथो मे
ये प्रग्या मंदिर ही नही
कर देगी उजियारा सन्सार मे
ळे हाथ हमारे साथ चलो
हम दुनिया रोशन कर देगे
कुछ दूर हमारे साथ चलो
हम सारी कहानी कह देंगे

18 comments:

  1. aapka hausl bhi gazab ka hai
    aapka lekhan bhi gazab ka hai
    aapka swaagat bhi gazab ka hoga

    wish you all the best !

    ReplyDelete
  2. चलो अच्छा है...
    शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  3. लिखना जारी रखें। हम साथ चलने को तैयार हैं :)

    ReplyDelete
  4. Anek shubhkamnayen saath hain..safar kamyaab ho...
    shama

    ReplyDelete
  5. स्वागत है. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  6. Hai,
    check this cool link
    http://jabhi.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. Oye hoye Nidhi darling.. so finally the blog is being popular... nice poem as always... keep it up...

    ReplyDelete
  8. स्वागत है. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  9. कमाल की जुगलबंदी है आपके शब्दों में सुंदर रचना

    ReplyDelete
  10. स्वागत है. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  12. आप की रचना प्रशंसा के योग्य है . आशा है आप अपने विचारो से हिंदी जगत को बहुत आगे ले जायंगे
    लिखते रहिये
    चिटठा जगत मे आप का स्वागत है
    गार्गी

    ReplyDelete
  13. mast hai yaar!!!!
    tu aese hi likhti reh!!

    ReplyDelete
  14. uhu uhu... hum jaise nacheez kya dad denge aap jaise mahan prani ki lekhni ko...bas hamara chanchal man to yahi khta hai Wah Wah!!!! Wah Wah!!! kya bat hai... gud goion dear Albela Khatri ji b aapko notice kar rahe hai... gud... keep dis up...

    ReplyDelete
  15. -:एक निवेदन:-
    मनुष्य जीवन को सार्थक बनाने वाले सद्विचार अपने मोबाइल पर नि:शुल्क प्राप्त कर युग निर्माण योजना को सफल बनाने में हार्दिक सहयोग करे।
    -:आपका सहयोग:-
    मनुष्य जीवन को फलदायी बनाने वाले सद्विचार अपने मोबाइल पर प्राप्त करें।
    इसके लिए आपको अपने मोबाइल से केवल एक बार यह मेसेज भेजना हैं।

    मेसेज टाइप करे -
    JOIN लिखे, इसके बाद एक स्पेस दे फिर MOTIVATIONS लिखे यानि JOIN MOTIVATIONS लिखें और इसे 09870807070 पर भेज दें। Successfully Subscribe होने के बाद प्रतिदिन आपको
    अनमोल सद्विचार अपने मोबाइल पर प्राप्त होते रहेंगे।
    यह सेवा पूर्णतया नि:शुल्क हैं।
    हमारी आप सभी से यह विनम्र अपील हैं कि आप सभी विचार क्रान्ति अभियान की इस अभिनव योजना से जुड़े और अधिकाधिक लोगों को इस योजना से जोड़ने का प्रयास करावें।

    ReplyDelete